श्रद्धांजलि

  

भैरोसिंह शेखावत
शीला दीक्षित
मुलायम सिंह यादव
विष्णु प्रभाकर
कमलेश्वर
एक हिन्दीसेवी का जाना
भारत भूषण
रामदरश मिश्र
हिन्दी व्यंग्य के बुरे दिन
हंसो तो व्यासजी की तरह
श्यामसिंह 'शशि'
उदयभानु हंस
यादों के झरोखों से
ममता कालिया
व्यासजी के निधन से ब्रज और हिन्दी साहित्य के एक युग का पटाक्षेप
राजेशेखर व्यास
डॉ. हरगुलाल
लक्ष्मीनारायण गर्ग
हिन्दी का विशाल जहाज धीरे-धीरे महासागर में समा गया
श्रद्धांजलि
उत्तरप्रदेश हिन्दी संस्थान
डॉ. आशा जोशी
दिल्ली हिन्दी साहित्य सम्मेलन
यादों में

श्रद्धांजलि

हिन्दी हास्य-व्यंग्य के मूर्धन्य लेखक, वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार और कर्मठ एवं समर्पित हिन्दीसेवी पंडित गोपालप्रसाद व्यास का निधन हिन्दी जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। व्यासजी हास्य-व्यंग्य, साहित्य-संस्कृति और हिन्दी भाषा के विलक्षण प्रवक्ता थे। देश-विदेश में उनकी ख्याति हिन्दी हास्य-व्यंग्य के शीर्षस्थ रचनाकारों में होती है। वह पिछले लगभग 70 वर्षों से समाज, संस्कृति, साहित्य और पत्रकारिता के विभिन्न क्षेत्रों में एक कर्मठ, जुझारू, निष्ठावान, साधनाशील एवं उत्प्रेरक व्यक्तित्व के रूप में सक्रिय रहे। चाहे हिन्दी को जन-जन तक पहुंचाने का भगीरथ प्रयत्न हो अथवा साहित्यिक आयोजनों के माध्यम से राष्ट्रीय चेतना की अलख जगाने का कार्य, व्यासजी सदैव अग्रणी रहे। वह एक सर्जक साहित्यकार, पैनी राजनीतिक टिप्पणियां करने वाले पत्रकार, व्यंग्य-विनोद को ऊंचा स्थान दिलाने वाले ऐसे रचनाकार थे, जिन्होंने हिन्दी की प्रतिष्ठा को राष्ट्रीय स्वाभिमान और गौरव से जोड़ा तथा राजर्षि पुरुषोत्तमदास टंडन से प्रेरणा पाकर दिल्ली में 'हिन्दी भवन' जैसे विशाल सांस्कृतिक प्रासाद का निमार्ण किया। व्यासजी अंतिम समय तक लिखते रहे। वह अपने आपमें एक संस्था थे। उनके जैसा कर्मयोगी विरला ही होता है। ऐसे कर्मयोगी को शत्‌-शत्‌ प्रणाम !

(प्रवीण उपाध्याय, संपादक, आजकल)

| कॉपीराइट © 2007: हिन्दी भवन, नई दिल्ली |
   | वेब निर्माण टीमः हैश नेटवर्क |