प्रयाण-गीत

( वीर रस की कविताएं )   

भूमिका
नेताजी का तुलादान
खूनी हस्ताक्षर
हिन्दुस्तान हमारा है
मुक्ति-पर्व
प्रयाण-गीत
शहीदों में तू नाम लिखा ले रे !
 

 

प्रयाण-गीत गाए जा !
तू स्वर में स्वर मिलाए जा !
ये जिन्दगी का राग है--जवान जोश खाए जा !
प्रयाण-गीत ...........

तू कौम का सपूत है !
स्वतन्त्रता का दूत है !
निशान अपने देश का उठाए जा, उठाए जा !
प्रयाण-गीत .................

ये आंधियां पहाड़ क्या ?
ये मुश्किलों की बाढ़ क्या ?
दहाड़ शेरे हिन्द ! आसमान को हिलाए जा !
प्रयाण-गीत...................

तू बाजुओं में प्राण भर !
सगर्व वक्ष तान कर !
गुमान मां के दुश्मनों का धूल में मिलाए जा।
प्रयाण-गीत गाए जा !
तू स्वर में स्वर मिलाए जा !
ये जिन्दगी का राग है--जवान जोश खाए जा।



('रंग, जंग और व्यंग्य' से, सन्‌ 1966)
पृष्ठ-1       
| कॉपीराइट © 2007: हिन्दी भवन, नई दिल्ली |
   | वेब निर्माण टीमः हैश नेटवर्क |