राष्ट्रवाणी

भूमिका
वंदे हास्यरसम
व्यंग्य-विनोद शास्त्र से लोक तक
समय की देन हूं मैं
कहां लौं कहिए ब्रज की बात
राष्ट्रवाणी
हिन्दी चले तो कैसे चले
आपुन मुख हम आपुन करनी
यह विस्फोट अहम्‌ का है
तो सुनो मेरी कहानी
ओम शान्ति !
यह तभी होगा जब हिन्दी-आंदोलन के सूत्र हिन्दीवालों से निकलकर हिन्दीतर क्षेत्रों में पहुंचेंगे। ये तभी पहुंचेंगे जब हमारे हिन्दीतर भाइयों को यह विश्वास हो जाए कि हिन्दी उनकी मातृभाषा का नहीं, अंग्रेजी का स्थान लेने वाली है। यह तभी हो सकेगा जब हम हिन्दीवाले लोग हिन्दीतर भाइयों के राष्ट्रप्रेम और राष्ट्र-निर्माण में उनकी साझेदारी के प्रति संदेह के भाव रखना छोड़ दें। हम उनके प्रति विश्वास बनाकर ही अपने प्रति उन्हें विश्वासी बना सकते हैं। हम यह क्यों नहीं समझते कि हिन्दी यदि निखिल हिन्द की भाषा है तो उसे बनाने, बढ़ाने और फैलाने का दायित्व भी समूचे हिन्द का है। हिन्दीवालों की भूमिका इसमें पक्षधरों की न होकर सहायक निष्पक्षों की होनी चाहिए। जब हम विदेशों से और पड़ोसी देशों से सद्व्यवहार बढ़ा सकते हैं, उनके साथ सांस्कृतिक संबंध मजबूत कर सकते हैं तो अपने ही देश के हिन्दीतर प्रदेशों में बसने वाले कदाचित्‌ हमसे भी अधिक भारतीय लोगों के साथ हार्दिक सौमनस्य स्थापित क्यों नहीं कर सकते ? हिन्दी को लेकर अपने और पराए का भाव देश में पैदा हो- इससे अधिक अनिष्टकर बात और क्या हो सकती है ? स्मरण रखिए, हिन्दी जोड़ने वाली भाषा है, तोड़ने वाली नहीं। हिन्दीवालों के किसी भी कदम से हिन्दी को, उसकी भावात्मक एकता को तोड़ने की गंध तक नहीं आनी चाहिए।
हिन्दीवाले भला या बुरा, अपना कार्य कर चुके। अब उन्हें उदारता से यह घोषित कर देना चाहिए कि समस्त देश की सभी भाषाएं, उनके लेखक और बुद्धिजीवी मिलकर इस राष्ट्रीय यज्ञ की ज्योति-शिखा को प्रदीप्त करें। जैसे भारत की स्वतंत्रता में देश के हर नागरिक ने, प्रत्येक प्रदेश के निवासियों ने और भारत के सभी नेताओं ने मिलकर सामूहिक प्रयत्न किया था, वैसे ही हिन्दी के गोवर्धन को उठाने का अकेला दायित्व हिन्दी प्रदेश नहीं उठा सकते। इसमें भी प्रदेश-प्रदेश के गोपी-ग्वालों की लकुटिया लगनी ही चाहिए, तभी गोवर्धन उठ पाएगा और देश की रक्षा अंग्रेजी की प्रलंयकारी बाढ़ से हो सकेगी।


('बिन हिन्दी सब सून' से, सन्‌ 2002)

पृष्ठ-10

| कॉपीराइट © 2007: हिन्दी भवन, नई दिल्ली |
1    2    3    4   5   6   7    8    9    10
   | वेब निर्माण टीमः हैश नेटवर्क |